• Sat. May 18th, 2024

पहली बार मंदिर समिति अधिकारियों-कर्मचारियों की बनेसेवा नियमावली


देहरादून। श्री बदरीनाथ- केदारनाथ मंदिर समिति (बीकेटीसी) ने पहली बार कर्मचारियों हेतु सेवा नियमावली बनाये जाने तथा मंदिर समिति के 400 कार्मिकों को उपनल की तर्ज पर मानदेय बढ़ाने हेतु शासन को प्रस्ताव भेजा है। बीकेटीसी बैठक में साथ ही श्री बदरीनाथ धाम एवं श्री केदारनाथ धाम में तीर्थयात्रियों को बेहतर यात्रा प्रबंधन,दर्शन व्यवस्था एवं यात्री सुविधाओं से संबंधित विषयों पर चर्चा के पश्चात प्रस्ताव पारित हुए हैं।
बुधवार को बीकेटीसी अध्यक्ष अजेंद्र अजय की अध्यक्षता में मंदिर समिति के केनाल रोड स्थित सभागार में त्रैमासिक बैठक संपन्न हुई। इस अवसर पर अध्यक्ष अजेंद्र ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा तथा प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के कुशल दिशा निर्देशन में श्री बदरीनाथ- केदारनाथ मंदिर समिति ने धामों की मान्यताओं परंपराओं के अनुसार तीर्थयात्रा को संचालित किया है। बेहतर यात्रा प्रबंधन के फलस्वरूप अभी तक 1073753 ( दस लाख तिहत्तर हजार सात सौ तिरपन) तीर्थयात्रियों ने श्री बदरीनाथ धाम तथा 1144 107 ( ग्यारह लाख चवालीस हजार एक सौ सात) तीर्थयात्रियों ने दर्शन किये है। दोनों धामों में अभी तक सवा बाईस लाख तीर्थयात्री पहुंच गये है। कहा कि मंदिर समिति अधिकारियों- कर्मचारियों, सहित शासन-प्रशासन, हक हकूकधारियों, धामों के तीर्थपुरोहितों के सहयोग से यात्रा सरल सुगम माहौल में संचालित हुई है।
बीकेटीसी मुख्य कार्याधिकारी योगेन्द्र सिंह ने बैठक का ऐजेंडा मंदिर समिति पदाधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत किया। इससे पहले उनके द्वारा 27 मार्च 2023 की बोर्ड बैठक के निर्णयों की अनुपालन आख्या सदन के समक्ष रखी जिस पर मंदिर समिति सदस्यों ने चर्चा की तथा अपने सुझाव रखे।
बैठक में सर्वसम्मति से त्रिजुगीनारायण मंदिर, श्री तुंगनाथ मंदिर परिसरों के विकास, सौंदर्यीकरण, विस्तारीकरण सहित श्री केदारनाथ धाम में भैरवनाथ शिला परिक्रमा निर्माण कार्यों हेतु कार्ययोजना को स्वीकृति दी गयी।
बताया गया श्री बदरीनाथ- केदारनाथ मंदिर समिति के कर्मचारियों अधिकारियों की सेवा नियमावली नहीं थी। पहली बार कर्मचारी सेवा नियमावली बनाने की अभिनव पहल हुई है।
मंदिर समिति ने कार्मिकों के हित में बड़ा निर्णय लेते हुए 400 अस्थाई कर्मचारियों के मानदेय को उपनल की तर्ज पर बढाये जाने का प्रस्ताव शासन को भेजा है तथा अस्थाई कर्मचारियों को ईपीएफ की सुविधा भी उपलब्ध करायी जायेगी।
सचिवालय की तर्ज पर मंदिर समिति ने अपना सुरक्षा संवर्ग बनाने का भी फैसला किया है तथा पदों के सृजन हेतु शासन को प्रस्ताव किया है। ताकि यात्रियों को पूजा व्यवस्था, दर्शन व्यवस्था में उचित सुविधा मिल सकेगी।
मंदिर समिति के ई आफिस डिजिटलीकरण, ई फाइलिंग आदि हेतु सूचना प्रोद्योगिकी के पदों हेतु शासन को प्रस्ताव भेजा गया है।
श्री केदारनाथ धाम में तीर्थयात्रियों की भारी संख्या को देखते हुए अपर मुख्य कार्याधिकारी पद सृजन हेतु शासन को प्रस्ताव भेजने पर सहमति बनी। ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ में सुरक्षा दीवार बनाये जाने, श्री बदरीनाथ- केदारनाथ मंदिर समिति कर्मचारियों को स्वास्थ्य तथा जोखिम को देखते भारतीय स्टेट बैंक द्वारा ग्रुप इंश्योरेंस सुविधा प्रदान किये जाने के प्रयास किये जा रहे है। इंडियन ग्लोबल फाउंडेशन को बदरीनाथ धाम में यात्री विश्राम गृह बनाने की अनुमति देने,टैक्सीस्टेंड बदरीनाथ धाम में मंदिर समिति की नवनिर्मित दुकानों के नियमानुसार आवंटन के संबंध में मंदिर समिति के उपाध्यक्ष किशोर पंवार के पत्र के अनुसार बदरीनाथ में मंदिर समिति की खाली भूमि पर दुकानों के निर्माण पर भी कार्ययोजना बनेगी।
मंदिर समिति की लखनऊ एवं फतेहपुर स्थित संपत्ति के संरक्षण, श्री केदारनाथ धाम मंदिर प्रांगण में तीर्थयात्रियों की सुविधाओं हेतु रेलिंग कार्य संबंधित प्रस्ताव पारित हुए।
बैठक में मंदिर समिति उपाध्यक्ष किशोर पंवार,सदस्य श्रीनिवास पोस्ती, महेंद्र शर्मा, पुष्कर जोशी, आशुतोष डिमरी, भास्कर डिमरी,डा. वीरेंद्र असवाल, राजपाल जड़धारी,कृपाराम सेमवाल, नंदा देवी, रणजीत सिंह राणा, वरिष्ठ वित्त अधिकारी भारत चंद्र, अधिशासी अभियंता अनिल ध्यानी, विशेष कार्याधिकारी रमेश सिंह रावत, कार्याधिकारी आरसी तिवारी,सहायक अभियंता गिरीश देवली, सहायक अभियंता विपिन तिवारी, निजी सचिव प्रमोद नौटियाल, मीडिया प्रभारी डा. हरीश गौड़, कमेटी सहायक अतुल डिमरी, दीपेन्द्र रावत और अमित देवराड़ी आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
नॉर्दर्न रिपोर्टर के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न०:-7017605343,9837885385