• Tue. May 21st, 2024

एलायंस फ्रांसेस देहरादून में बनाएगा ठिकाना


देहरादून। फ्रांस सरकार द्वारा समर्थित एक प्रमुख संस्थान एलायंस फ्रांसेस जल्द ही देहरादून में एक कार्यालय स्थापित करेगा। इस संगठन के माध्यम से एलायंस फ्रांसेस का लक्ष्य उत्तराखंड में भी फ्रेंच भाषा और संस्कृति की शिक्षा को बढ़ावा देना है। कुछ प्रमुख स्थानीय नागरिकों के साथ एलायंस फ्रांसेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने सचिवालय में मुख्यमंत्री के सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम से मुलाकात की और उन्हें अपनी योजना से अवगत कराया और एलायंस फ्रांसेस के केंद्र की स्थापना में उत्तराखंड सरकार का सहयोग भी मांगा।
फ्रांसीसी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व इमैनुएल लेब्रून-डेमियंस ने किया। वह फ्रांसीसी दूतावास में शिक्षा, विज्ञान और संस्कृति सलाहकार हैं। प्रतिनिधिमंडल ने ने सचिव को अवगत कराया कि एलायंस फ्रांसेस और अन्य स्थानीय संगठनों के समर्थन से, फ्रांसीसी सरकार सांस्कृतिक संबंधों और फ्रांसीसी शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए देहरादून में उपस्थिति दर्ज चाहती है। मुलाकात के दौरान डेमिएन्स ने इस बात पर जोर दिया कि भारत सरकार का फ्रांस के साथ बेहद खास रिश्ता है और फ्रांस सरकार इस रिश्ते को और मजबूत करना चाहती है। फ्रांसीसी सरकार इस केंद्र की मदद से फ्रांसीसी भाषा की शिक्षा को बढ़ावा देने और उत्तराखंड और फ्रांस के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान को बढ़ावा देने के लिए देहरादून में एलायंस फ्रांसेस की स्थापना में मदद कर रही है। उन्होंने आगे जोर देकर कहा कि यह केंद्र उत्तराखंड में फ्रांस की ओर से औद्योगिक विकास और निवेश का मार्ग भी प्रशस्त करेगा।
डेमिएन्स और अन्य सदस्यों ने बताया कि शुरुआत में, केंद्र उन लोगों के लिए फ्रेंच कक्षाएं शुरू करेगा जो फ्रेंच सीखना चाहते हैं। बाद में, फ्रांसीसी लेखकों, संगीतकारों, कलाकारों और गायकों और मंडलियों को भी देहरादून में अपने प्रदर्शन के लिए आमंत्रित किया जाएगा। केंद्र राज्य के उन छात्रों को छात्रवृत्ति दिलवाने में भी मदद करेगा जो फ्रांस में अध्ययन करना चाहते हैं।
प्रतिनिधिमंडल ने यह भी उम्मीद जताई कि उत्तराखंड में संभावित फ्रांसीसी निवेश से कुछ चुनिंदा क्षेत्रों में औद्योगीकरण के अलावा राज्य में रोजगार बढ़ाने की क्षमता है। सुंदरम ने याद दिलाया कि केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय अब देश में विदेशी विश्वविद्यालयों के परिसरों की स्थापना को प्रोत्साहित कर रहा है और इसके दृष्टिगत उन्होंने प्रतिनिधिमंडल से उत्तराखंड में अच्छे फ्रांसीसी विश्वविद्यालयों के परिसरों की स्थापना की संभावना तलाशने का आग्रह भी किया। सुंदरम ने आश्वासन दिया कि सरकार ऐसे विश्वविद्यालयों की स्थापना में हर संभव मदद करेगी। सुंदरम ने उद्योगों की आवश्यकताओं के अनुसार स्थानीय युवाओं के कौशल विकास के लिए फ्रांसीसी प्रतिनिधिमंडल से भी मदद मांगी।
बैठक में फ्रांस में फिजियोथेरेपी आदि जैसी भारतीय पेशेवर डिग्रियों को मान्यता देने पर भी चर्चा हुई। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि फ्रांसीसी सरकार सकारात्मक रूप से अध्ययन करेगी कि भारत में ये डिग्रियां कैसे हासिल की जाती हैं और समकक्ष फ्रांसीसी डिग्रियों के साथ उनकी तुलना करने के बाद वह निश्चित रूप से उन्हें मान्यता देने पर विचार करेगी। कला, साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र में उत्तराखंड के फ्रांसीसी और भारतीय कलाकारों के बीच बढ़ती साझेदारी और चिन्हित औद्योगिक क्षेत्रों के संबंध में राज्य और फ्रांस के बीच अधिक सहयोग पर भी चर्चा हुई।
प्रतिनिधिमंडल में डेमियन्स के अलावा अलायंस फ्रांसेज़ नेटवर्क की समन्वयक एलिस गौनी; एलायंस फ्रांसेज़ देहरादून सपोर्ट ग्रुप के सदस्य, राहुल जैन; एलायंस फ़्रैन्काइज़ देहरादून सपोर्ट ग्रुप के सदस्य एवं वरिष्ठ पत्रकार सतीश शर्मा और शाखा प्रबंधक एलायंस फ्रांसेस ऑरेलियन ड्यूमॉन्ट भी शामिल रहे।
यहां बता दें कि एलायंस फ्रांसेस के भारत और दुनिया भर के प्रमुख शहरों में कार्यालय हैं और अब देहरादून को भी इस सूची में शामिल किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि भारत में 24 एलायंस फ्रांसेस केंद्र हैं जो नई दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, हैदराबाद, बेंगलुरु, पांडिचेरी, पुणे, मैसूर, अहमदाबाद, भोपाल, चंडीगढ़, कोयंबटूर, गोवा, गुड़गांव, इंदौर, जयपुर, करिकाल, कोलकाता, मदुरै, माहे, तिरुचिरापल्ली, त्रिवेन्द्रम और वडोदरा में स्थापित हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
नॉर्दर्न रिपोर्टर के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न०:-7017605343,9837885385