• Mon. May 20th, 2024

सिद्धपीठ देवलेश्वर महादेव मंदिर में बैकुंठ चतुर्दशी मेला शुरू


पौड़ी। गगवाडस्यूं घाटी स्थित सिद्धपीठ श्री देवलेश्वर महादेव मंदिर बलोड़ी में पांच दिवसीय धार्मिक व सांस्कृतिक बैकुंठ चतुर्दशी मेले का आगाज हो गया है। घाटी के ननकोट गांव के ग्रामीणों ने भगवान गणेश, शिवजी व माता पार्वती के प्रतीक के रुप में तीन रंगों में सजी 55 फिट ऊंची शिव ध्वजा मंदिर में चढ़ाई। इससे पहले धनाऊं गांवों के ग्रामीणों ने पिछले साल चढ़ाई गई शिव ध्वजा को उतारा। इस दौरान मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी रही। मेले में घाटी के विभिन्न विद्यालयों के बच्चों ने मार्च पास्ट व झांकियाें की शानदार प्रस्तुतियों से दर्शकों की खूब वाहवाही बटोरी।
बुधवार को सिद्धपीठ श्री देवलेश्वर महादेव मंदिर परिसर बलोड़ी में आयोजित बैकुंठ चतुर्दशी मेले का उद्घाटन मुख्य अतिथि लैंसडाउन विधायक महंत दलीप रावत ने किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि बैकुंठ चतुर्दशी मेला गगवाडस्यूं घाटी की सांस्कृतिक विरासत है। यह क्षेत्र का ऐसा मेला है, जिसे घाटी के 34 गांवों के ग्रामीण आपसी समन्वय से आयोजित कर रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्र में भव्य रुप में मेले का आयोजन सराहनीय पहल है। विधायक रावत ने कहा मेला एक-दूसरे को आपस में जोड़ने, सुख-दुख बांटने, व्यवसाय को बढ़ाने, सांस्कृतिक व धार्मिक प्रतीकों के अभिनव व नई पीढ़ी को संस्कृति में सहभागी बनाने का उत्सव है। मेले में राप्रावि उज्याड़ी, सरस्वती शिशु मंदिर ल्वाली, राप्रावि बौंसरी, गगवाड़ा व पुडाेरी, रापूमावि बलोड़ी, जनता इंटर कालेज ल्वाली, जीआईसी उज्याड़ी व कन्या हाईस्कूल ल्वाली ने मार्च पास्ट में प्रतिभाग किया। सरस्वती शिशु मंदिर उज्याड़ी के बच्चों ने डांडियां नृत्य, राप्रावि तमलाग ने भैलो संस्कृति, जनता इंटर कालेज ल्वाली ने तमलाग के मोरी मेला, कन्या हाईस्कूल ल्वाली ने शिव तांडव व जीआईसी उज्याड़ी में शिव-नंदा की शानदार झांकियों की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में बीआर मॉडर्न स्कूल पौड़ी के छात्र-छात्राओं ने कोई गोविंद-कोई गोपाला की प्रस्तुति दी। लोक गायक भारती ने बाबा देवलेश्वर जोगी, देवल मुनि, तेरु शंभू, मेरु शंभू भजनों की प्रस्तुति पर दर्शक जमकर थिरके। लोक गायिका ऊषा नेगी ने मेरा भोला शिवजी व केन लगाई बडुली की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम का संचालन नागेंद्र जुगरान ने किया। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि ब्लाक प्रमुख दीपक कुकसाल, देवलेश्वर महादेव मंदिर के मुख्य पुजारी सुधीर चंद्र बड़थ्वाल, महंत क्यूंकालेश्वर महादेव मंदिर पौड़ी अभय चेतन्यानंद मुनि, विश्वेश्वर महादेव चोपडियूं के महंत शेखर गिरी, नागेश्वर महादेव मंदिर बिडोली पुजारी जमुना गिरी, प्रधान संगठन के जिलाध्यक्ष कमल रावत, व्यास रतीश काला, मंदिर समिति के अध्यक्ष केशर सिंह कठैत, सचिव जगत किशोर बड़थ्वाल, जसपाल रावत आदि मौजूद रहे।पौड़ी। बैकुंठ चतुर्दशी मेला बलोड़ी में शिक्षा के क्षेत्र में सराहनीय योगदान के लिए बीआर मॉडर्न स्कूल पौड़ी के प्रधानाचार्य दामोदर मंमगाई को सम्मानित किया गया। समिति के अध्यक्ष केशर सिंह कठैत ने कहा प्रधानाचार्य मंमगाई बीते तीन दशको से शिक्षा के क्षेत्र में अतुलनीय योगदान दे रहे हैं। समिति उन्हें सम्मानित कर गौरवांवित है।

देवलेश्वर मंदिर कहलाएगा श्री देवलधाम
पौड़ी। सिद्धपीठ श्री देवलेश्वर महादेव मंदिर अब श्री देवलेश्वर धाम कहलाएगा। बैकुंठ चतुर्दशी मेले के मौके पर मंदिर समिति ने सभी के सामने यह प्रस्ताव रखा। जिसे घाटी के मौजूद सभी लोगों ने सहर्ष स्वीकृति दी। सचिव जगत किशोर बड़थ्वाल ने बताया कि अब देवलेश्वर महादेव मंदिर बलोड़ी को श्री देवलधाम के रुप में जाना जाएगा।
एलबम का हुआ विमोचन
पौड़ी। बैकुंठ चतुर्दशी मेले में अतिथियों ने देवलेश्वर महादेव मंदिर की महत्ता पर रचित चार गीतों के एलबम का विमोचन किया गया। भजनों की रचना जगत किशोर बड़थ्वाल ने की है। जिन्हें लोक गायक दिनेश भारती ने गाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
नॉर्दर्न रिपोर्टर के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न०:-7017605343,9837885385